ब्लड – प्रेशर (रक्तचाप) : एक नियंत्रित बीमारी

शहरी जीवन में अति व्यस्थ दिनचर्या के कारण मुख्यतः 30 की उम्र में ही हाई पर टेंशन नाम रोग शुरू हो जाता है। इसका नाम रोग शुरू हो जाता... Read more »

फळ-द्वितीया कथा – Fal Dyitya ri Katha

अेक समय राजां युधिस्ठिर भगवान स्री किरसण जी सूं परसन करयो कै है जनारदन दान अ’र यग्य बो किसो पुण्य है जिके रे करने सूं राज्य री पिराप्ति होवे... Read more »

हल्दी के फायदें – Haldi ke Fayde

हल्दी को रसोई की रानी कहा जाता है। ब्रह्मचारी के हल्दी से रंगे यज्ञोपवीत सिर्फ कोरे दिखावें की चीजें नहीं बल्कि इनका अपना एक वैज्ञानिक महत्व भी है। यह... Read more »

ग्रीष्म ऋतुपेय प्रदार्थ – Garmi Me Labhkari Pey Padarth

ग्रीष्म ऋतुपेय प्रदार्थ मयुखैर्जगतः स्नेहं ग्रीष्मे पेपीयते रविः। स्वादु शीतं द्रवं स्निग्धमन्नपानं तदाहितम्।। (चरक संहिता) अर्थात ग्रीष्म ऋतु में सूर्य अपनी प्रखर किरणों द्वारा संसार के जड़ चेतन जगत... Read more »

ज्येष्ठ मास शुक्ल पक्ष -निर्जला एकादशी कथा – Nirjala Ekadashi Vart Katha

युधिष्ठिर ने कहा- जनार्दन! ‘अपरा’ का सारा माहात्म्य मैंने सुन लिया, अब ज्येष्ठ शुक्ल पक्ष में जो एकादशी हो उसका वर्णन कीजिये। भगवान श्रीकृष्ण बोले- राजन्! इसका वर्णन परम... Read more »

दान क्यों और कैसें ? – Daan Kyon or Kaise?

मनुष्य के जीवन में दान का अत्यधिक महत्व बतलाया गया है, यह एक प्रकार का नित्यकर्म है ।  मनुष्य को प्रतिदिन कुछ दान अवश्य करना चाहिये – ‘श्रद्धया देयम्,... Read more »

लू से बचने के उपाय – Ways to Avoid Sunstroke

भारतवर्ष के अधिकांश राज्यों में ग्रीष्म ऋतु का प्रभाव अधिक रहता है। मुख्यतः राजस्थान, दिल्ली, पंजाब, हरियाणा एवं दक्षिण भारत के कुछ इलाकों में ग्रीष्म ऋतु का प्रभाव सर्वाधिक... Read more »